<!--:en-->Want to make a difference? Today is your chance!<!--:--><!--:hi-->कुछ परिवर्तन लाना चाहते हैं?<!--:-->
Dec 2010 07

Have you ever felt that some things in the education system could be done differently? Ever felt like you should have a say in how things are done? Felt like you can make a difference, or that you should make a difference?

Ever felt that whom you marry should be your decision? That you should be free to understand your body and sexuality without guilt, shame or fear? That information about and access to condoms and contraceptives should be available freely? That it’s time to have equal standards for all genders? That your sex and society should not define whom you date or love?

This is your chance. To tell us what you think. This is our chance to be heard and to speak up.. So that we can tell the government what young people want. So that we can tell the government that sexuality education is needed! Or If you disagree - tell us why!

Take the comprehensive sexuality education survey! Click here! It only takes 2 minutes! Why?

Because young people have the right to receive information on sexuality and relationships ….Because 78% of young people who are less than 20 years don’tknow about safer sex……Because over 50% of children in India are sexually abused according to a recent government study…Because 49% of girls in India get married before the age of 18 years…….Because nearly 45% of all new HIV infections in the country are in people under 25 yrs old……..

And yet, we are still struggling to make comprehensive sexuality education available in schools across the country. The Central Government along with UN agencies, NCERT and NACO launched the Adolescence Education Program in 2005 which was subsequently banned by several Indian states who felt comprehensive sexuality education is against Indian culture and is not needed by our young people. The curriculum was labelled immoral and too explicit. The curriculum has been subsequently revised and hopefully would be made public by next week.

This is a campaign to unite young people’s voices on their need for comprehensive sexuality education, to discuss how we want this education implemented and to review the current curriculum. Many people have had a say in whether sex ed is needed. The government, NGO’s, teachers, Right wing fundamentalists. The only people who haven’t spoken out is Us. Young people.

This is our opportunity to have a say in how things are done for us. It is our chance to show that we are equal partners in our own development and that we need to be a part of the governance process. It is our chance to speak up and make a difference. So, browse the site. Read. Learn. Express. Share. Discuss. This is your space. This is your campaign.

Know Your Body – Know Your Rights.

And don’t forget to fill out the comprehensive sexuality education survey! It only takes 2 minutes! Spread the word for there is strength in numbers!

Yours,

The Campaign Team

क्या आप को कभी ऐसा लगा कि सरकार को यह कुछ अलग तरीके से करना चाहिए या वो कुछ इस तरीके से होना चाहिए ? कि काश आप सरकार को किसी चीज को बेहतर बनाने के लिए सुझाव दे पाते?

आज हम आप को वो अवसर देना चाहते हैं। आज आप केवल 2 मिन्ट दे कर परिवर्तन में भागीदार बन सकते हैं। कृप्या हमारा व्यापक यौनिकता शिक्षा सर्वेक्षण पूरा करें। वह यहाँ उपलब्ध हैः सर्वेक्षण

आप पूछेंगे पर क्यों ?  के 50 प्रतिशत से ज्यादा बच्चे यौन शोषण के शिकार रह चुके हैं। क्योंकि भारत में नए एचआईवी संक्रमण के 45 प्रतिशत से ज्यादा मामले 15-24 साल के युवाओं में देखे जा रहे हैं। व्यापक यौनिकता शिक्षा इस स्थिती में सकरात्मक परिवर्तन ला सकती है लेकिन फिर भी यह शिक्षा सभी स्कूलों में उपलब्ध नहीं है।

किशोरावस्था शिक्षा कार्यक्रम (एईपी) केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एमएचआरडी) और राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संस्थान (नाको), भारत सरकार का एक संयुक्त प्रयास है जो 2005 में शुरु हुआ। इसका मकसद प्रत्येक किशोर/किशोरी (10-19 वर्ष) को एचआईवी संक्रमण से अपना बचाव करने और अपनी प्रजनन एवं यौन स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं को सही ढंग से संबोधित कर पाने के लिए वैज्ञानिक सूचना, ज्ञान और जीवन कौशल प्रदान करना है। 2007 में कई राज्यों ने इस कार्यक्रम पर पाबंधी लगा दी।

उनका मानना है कि यह कार्यक्रम भारतीय संस्कृती के खिलाफ है और इसका पाठ्यक्रम भारतीय युवा के लिए अनुचित है। इस पाठ्यक्रम को एक बार 2008 में बदला गया था और अब इसे फिर से बदला जा रहा है।

यह अभियान व्यापक यौनिकता शिक्षा पर भारतीय युवा की आवाजों को एकजुट प्रस्तुत करने का प्रयत्न है। साथ ही यह एक मंच है जहाँ युवा इस शिक्षा के संचालन के विषय में भी चर्चा कर सकते है और साथ ही एईपी पाठ्यक्रम पर अपने सुझाव भी दे सकते हैं।

हम सब के पास यह एक सुनहरा अवसर है – परिवर्तन लाने का। अवसर, यह साबित करने का कि भारतीय युवा साथ मिल के सकरात्मक बदलाव का उत्तरदायित्व उठा सकते हैं।

तो इस वेबसाइट पर दी जानकारी को पढिये। मुद्दों को जानिए और समझिए। अपने विचारों व सुझावों को व्यक्त किजिए, एक दुसरे के साथ बाँटिये और चर्चा किजिए। यह अभियान आपका है। यह मंच आपका है।

और कृप्या हमारा व्यापक यौनिकता शिक्षा सर्वेक्षण पूरा करना ना भूलें। वह यहाँ उपलब्ध हैः सर्वेक्षण

आपकी,

अभियान संचालन समिति

1 Comment

  1. [...] This post was mentioned on Twitter by The YP Foundation, YAHAnet. YAHAnet said: RT @TheYPFoundation—India's 1st #youth-led Nat'l Campaign on #Sexed—SPEAK UP & tell the gov what's needed! http://3.ly/N4xv RT! #sexedsaves [...]

Got something to say? Go on! कुछ कहना चाहते हैं ? यहाँ लिखें ।