Language of sexuality
Dec 2010 05

The language of sexuality that we use at The YP Foundation has evolved over the last few years as our understanding of what the multiple facets of and interconnections within sexuality, gender, rights and health are. It’s been a challenging process and our knowledge of the same has been challenged, redefined, questioned and re-invented. The most important learning principle is that there is little that is static. Our key principles remain the same, but how those are defined and applied is a continuous learning process.

Over the last 2 years our work has been directed towards advocating for young people’s sexual right as a human right. Certain key principles that have been recognized are:

- We believe that sexuality and expression of sexuality is intrinsic to each individual

- Recognize that sexuality is a normal and important part of all people’s lives and while different people have different understandings and ways of expressing their sexuality, all people should experience their bodies and sexuality in a positive and fulfilling manner.

- Every person has the right to access information services relating to sexual rights and health irrespective of any other considerations.

-Recognize that gender is a fluid concept and gender roles are based on narrow societal constructs. Every individual has the right to choose and ascribe to different gender and/or sexual identities.

- Respect, and not violate, other people’s bodies and personal spaces, laying emphasis on the importance of consent in relationships.

- Recognize that different people have different body types and address existing stereotypes relating to body types, sexuality & notions of what is attractive.

- Respect their bodies and take proper care of their bodies with respect to nutrition, exercise, sexual health and get regular health checkups.

- Recognize the importance of accessing correct information from reliable sources, leading to informed decision making.

Along with any sort of work comes a tag, a tendency to define and interpret where certain actions, event or piece of work fits in. For The YP, this process was not a conscious process, but we found a space, where we feel our work very naturally fit.

Language here again became important. What are our politics and our stands?  What language and with what words do we speak?  Who do we speak on behalf of? Do we identify ourselves with any movement?  Specifically in relation to our work with sexuality, how do we ensure that our work and also language is culturally appropriate-or is that even necessary?

Another question was of our engagement with social issues, with registration came the tag of NGO- a ‘not for profit registered foundation’. Words such as social change, social justice, Advocates, Activists entered our vocabulary and concept notes.

The term youth activism has been used to describe our work in multiple arenas, both internally and externally. But what does that mean, specifically in the context of work around sexuality and gender, how is activism interpreted when placed in the milieu of urban issues and people? These are some of the questions that this series of article hopes to explore.

Ishita Sharma

उत्तर प्रदेश में युवाओं को प्रजनन एवं यौनिक स्वास्थ्य एवं अधिकार की जानकारी इस लिए आवश्यक है क्योंकि –

पिछली पीढी की तुलना में किशोरियों में समय से पहले शारीरिक परिवर्तन की शुरुआत हो जाती है।

माहवारी के समय आपने शरीर के बारे में जानकारी न होने से काफी नकारात्मक परिणाम उनके प्रतनन स्वास्थ्य के संदर्भ में देखे जा सकते हैं।य

  • एक अध्ययन के अनुसार बडी संख्या में लडकियों को अपनी माहवारी के बारे में पता ही नहीं था जब उन्हें माहावारी शुरु हुई। जिन्हें जानकारी थी उसमें से अधिकतर को इसके कारण उनके व्यवहार व इधर-उधर जाने पर लगी पांबन्दियों की जानकारी थी। तीन चौथाई लडकियों ने बताया कि वे माहवारी के समय पुराने गन्दे कपडे इस्तेमाल करते हैं। और उसमें से अधिकतर ने उन्हीं इस्तमाल किये कपडों को बार-बार इस्तमाल करने के बारे में बताया।
  • आई.टी.आई रिर्पोडक्टिव टैक्ट इंफैक्शन की निरंतरका उन लडकियों में तीन गुना ज्यादा पाई गयी जो कि माहवारी के दौरान गन्दे कपडे इस्तेमाल करती हैं या सफाई नहीँ रख पाती हैं।
  • प्रजनन अस्वस्था के पीछे माहवारी के समय की जाने वाली लापरवाही एक बडा कारण निकलकर आया।

उत्तर प्रदेश में कम उम्र में विवाह करना एक आम बात है जिसके चलते किशोरावस्था में ही एक बडी संख्या में शारीरक संबंध बना लेती हैं। जिसकी वजह से कई लडकियां 19 साल से कम उम्र में ही गर्भधारण कर लेती है। गर्भावस्था के दौरान जटिलतायें जैसे अनिमिया, स्वतः गर्भपात, तथा इक्लेम्पिया आदि किशोर लडकियों में ज्यादा पाया गया है जो कि गर्भधारण के समय मौत के कारण बनते हैं।

  • उत्तर प्रदेश की 20-24 उम्र की 53 प्रतिषत महिलाओं की शादी 18 साल ले कम हो जाती है।
  • उत्तर प्रदेश में 25-49 वर्ष की महिलाओ के पहले बच्चे के जन्म के समय आयु 19.4 है। जबकि 15-19 साल की 14.3 प्रतिषत महिलायें या तों मां बन जाती है।
  • 5 में से एक विवाहित युवती 17 वर्ष की उम्र में मां बन जाती है।
  • किशोरावस्था में लडकियां शारीरिक रुप से पूर्ण विकसित नहीं होती, अतः उस उम्र में गर्भधारण या बच्चे का जन्म उन्हें जटिल शारीरिक स्थिति में पहुंचा देता हैं।
  • भारत में 1000 बच्चों के जन्म में से लगभग 107 जन्म 15 से 19 वर्ष की महिलाओं में होते है।
  • नवजात शिशु मृत्यु दर जिसके लिए असुरक्षित प्रसव एक मुख्य कारण है, उत्तर प्रदेश में प्रमुख रुप से अधिक है, खासकार किशोरावस्थाकी माताओं में जिनकी उम्र 20 से 29 साल है। 15 से 19 वर्ष की उम्र पर प्रसव में प्रत्येक 1,000 जन्म पर शिशु मृत्यु दर 85.4 है जबकि 20 से 29 साल में यह 52 है।
  • 1995 में किशोरावस्था में मातृत्व मृत्यु दर प्रति एक लाख जीवित जन्म पर 645 था जबकि बडे लोगों जिनकी उम्र 20-34 साल थी, में प्रति एक लाख जीवित जन्म पर 342 था।

अनु ,’ परिवर्तन में युवा ’ , सहयोग – उत्तर प्रदेश

<!--:en-->15 Things About My Sexuality<!--:--><!--:hi-->यौनिकता शिक्षा: युवा पीढी की जरुरत<!--:-->
Dec 2010 17

  1. I’m a 21yr old female and I am straight. I think. Maybe I am bi curious. I have the right to explore my own sexuality as long as I’m responsible about it so I still haven’t decided.
  2. At age 8 I got my first kiss, through a raja rani game from a 12 yr old boy who knew what he was doing I am sure, but I did not.
  3. At age 9-10 I was molested by my karate master and because I did not know what was right touch and wrong touch he used to … play with me as a special reward for my good performances. I liked it. And I hated myself when I found out what he was really doing.
  4. I got called a slut because I used to speak to boys. Because I dated ONE boy. That was the society then.
  5. I had sex, because I had this underlying deep seated need to be held, loved, to be told I was beautiful or amazing… because of certain things that happened during my childhood that had affected my self esteem, I  think.
  6. Sex is something I discovered slowly. Even in school most girls did not know anything and I would tell them everything about it.
  7. Masturbation was completely by accident. And I do it nearly everyday. I have been quite open about my sex life and I’d like to describe myself as a very sexual person.
  8. I am open about my sexuality and get very misunderstood about it.
  9. I didn’t use condoms before. I have had abortions. And I’ve realized what a huge mistake I made.
  10. I only realized there was something called cervical cancer a year ago and it scares me to death.
  11. I still don’t have a place I could safely go get a pap smear without someone else knowing. My abortions were in smaller clinics and all hush hush. and i will never live it down.
  12. The relationship I am in right now was initially emotionally abusive but things have changed now because I stood up for myself.
  13. I think sex-ed is important and people should love their bodies, love themselves so they can be in fulfilling relationships.
  14. My sexuality has always been judged, misinterpreted and surprised many people including my most accepting friends.
  15. We  need to stand up for our sexuality because it is so important in us and somewhere along the line we lost its value and it got degraded we have to be strong enough to be ourselves…in all our glory and all our mistakes. Not be judged but be accepted. We need to know everything about our body because it is our birthright. It is mine and I take it.

Anonymous, 21, Chennai

यौनिकता इन्सान होने का बहुत महत्वपुर्ण अंश है। यौनिकता केवल हमारे शरीर ही नहीं, उसके साथ हमारी समझ, विचार, स्वभाव, संस्कार, आस्था, विश्वास, शारीरिक आनन्द, इतिहास, धर्म, समाज एवं  आर्थिक स्थिति का समावेश है।

सबको अपनी यौनिकता चुनने का अधिकार है क्योंकि हम सब अलग है, विभिन्न है जिसके वजह से हमारी समाज मे एक पहचान हैं। समाज को किसी की उम्र, लिंग, जाति, गोत्र, यौनिकता, धर्म के आधार पर भेद-भाव नहीं करनी चाहिए। चाहे कोई परलैंगिक, द्विलैंगिक या समलैंगिक हो इस मे शर्माने या हिचकिचाने की जरूरत नहीं होती, सभी को अपनी जिंदगी अपने तरीके से जीने का जन्मसिद्ध अधिकार है।

यौनिकता शिक्षा एक व्यक्ति के युवा जीवन का एक ऐसा अंग है जिसके बिना वह अधूरा है। युवा मन मे ऐसे अनेक सवाल उठते है जिसका कोई जवाब नहीं देता और माता, पिता और शिक्षिक केवल इतना कहते है कि अभी वह बहुत छोटे है और उन्हें ऐसी बातों के बारे मे सोचना नहीं चाहिए, इस से ना तो वह कुछ समझ पाते है और बड़े होते हुए उनमे यौनिकता एवं यौन क्रिया के प्रति भय एवं जिज्ञासा उत्पन्न होती है।

युवा पीढी को जरूरत है कि उन्हें कोई यौन रोग और यौन अत्याचार के बारे मे जानकारी दे। युवक/युविकाओं को समझना होगा कि उनका शरीर केवल उनका है और किसी को भी उनसे बिना पूछे उन्हें छुने का हक नहीं है। इसके साथ ही उन्हें अपने इच्छाओं को समझना होगा और उसके परिणामों के बारें मे सोचना होगा। इसी कारण उन्हें इन विषयों पर शिक्षा मिलनी चाहेए।

यौनिकता और युवा शिक्षा साथ साथ चलते है। युवा पीढी को अपनी जिंदगी कैसे जीनी है ये उन पर निर्भर है लेकिन उन्हें अपने निश्चय का नतीजा जानना आवश्यक है।

<!--:en-->15 things about my sexuality – Part II<!--:--><!--:hi-->किशोरावस्था के दौरान होने वाले शारीरिक, मानसिक व भावनात्मक तथा सामाजिक परिवर्तन<!--:-->
Feb 2011 28

’15 things about my sexuality’

1) I don’t know what sexuality means. For me its my sexual state of mind. Or of body.

2) I am gay. Lesbian. Bisexual. Trans sexual. Pan sexual and straight. My sexuality changes everyday, hate the above mentioned words, I don’t like labels. I am all of the above and none of the above also. If you can like a different color everyday then why not sexual preference ?

3) I would love to call myself a sexual person even though I haven’t had sex ever. Sexuality and sex are different.

4) I became sexually active when I was 12 , with my first boyfriend. That was my first kiss, I don’t remember how it happened and why it happened.

5) I was molested when I was 15 by my science tutor. I was so upset that I could never tell my parents about it for a month and when I did it was worse. I did not let anyone touch me for 1 year after that.

6) I was in a 5 year long violent relationship with a man I loved – I never had the balls to get out of it, or stand up for myself. I never understood that verbal and physical abuse could mean violence. Now, I wish I go back in time and believe in myself more.

7) Boobs are the best part of my body, its also something people call me.

8) My entire school life till the 11th grade I was called a ‘whore’- because I would speak to guys and date them.

9) I believe in one night stands and I believe in relationships. I have had both, they remain special.

10) I watch porn, I like it. I am very open out it. The sophisticated people call it ‘yuck’. They don’t understand how porn can give you pleasure. Guess what? They don’t NEED to.

11) I believe in sex work. I prostitute my brain in my work place, there is nothing wrong in doing the same with you body.

12) If I get lots of money I will sleep with someone if they are hot and rich- no this isn’t for only money. You need feel pleasure in the work you do. And I like sex, a lot.

13) People try really hard not to judge me, to understand me and then they misinterpret me. Yes, the open minded people too. The open who claim to accept different sexuality and the same ones who talk about it.

14) In my past relationships, both with men and women I have been forced to have sex. But after the incidents mentioned above taught me how to say no.

15) You don’t define how I think, how I look, how I feel. I can think like a girl, look like a boy and feel think about both. I define my sexuality- I make it, change it, feel it, believe it and accept it.

Anonymous, 20, Delhi

िशोरावस्था वह समय है, जब मानव अपना बचपन छोड़कर जवानी की दहलीज पर कदम रखता है। इस समय बालक और बालिका से युवक और युवती बनने की प्रक्रिया शुरू होती है। यह 10 से 19 वर्ष की अवस्था है। इस दौरान बहुत सारे परिवर्तन होते है। ये परिवर्तन मस्तिष्क में स्थित पिटयुटरी ग्लेंड के स्त्राव के कारण होता है जो हारमोन्स की क्रियाशीलता के फलस्वरूप है। इन्हीं हार्मोन्स के कारण किशोरावस्था के शारीरिक भावनात्मक व सामाजिक परिवर्तन होते है।

सामान्य तौर पर लड़कियों में 10 से 15 वर्ष की आयु और लड़कोंं में 12 से 16 वर्ष में परिवर्तन प्रारंभ हो जाते है लड़कों में टेस्टीज या वृष्णाग्रंथि से पुरूष हार्मोन्स टेस्टॉस्टरोन और लड़कियों मsa Ovary से एस्ट्रोजन और प्रोजोसट्रोन उत्पन्न होते है।

लड़कियों में शारीरिक परिवर्तन :-

  • अचानक शरीर में विकास :- ऊंचाई और वजन में वृद्धि होती है। कुल्हे बड़े होते हे और कमर पतली होती जाती है। शरीर में स्त्री-सुलभ सुडौलता आ जाती है।
  • प्रजनन अंगों का विकास :- योनि/गर्भाशय में वृद्धि होती है।
  • योनि मार्ग से सफेद चिपचिपे द्रव का स्राव होता है। यह स्वाभाविक है।
  • डिम्बकोस क्रियाशील हो जाता है।
  • मासिक धर्म की शुरूआत ।

द्वितीय लैंगिक गुण :-

  • बगल और जनजांगों के आस-पास बाल उगते है।
  • स्तन बडे और विकसत हो जाते है। उनके आकार से दुग्ध निर्माण प्रणाली का कोई संबंध नहीं होता। कभी-कीाी एक स्तन दूसरे से अधिक बड़ा होता है।
  • आवाज पतली होने लगती है।
  • चेहरे पर मुॅंहासे आने लगते है।

लडकों में शारीरिक परिवर्तन :-

  • शरीर की लंबाइ और वजन में वृद्धि होती है। कंधे चौड़े होते है और स्वायु बढ़ने लगते है।
  • प्रजनन अंगों का विकास।
  • लिंग/शिश्न और अण्डकोष का आकार बढ़ने लगता है। उनमें से एक वृषण सामान्य दूसरे से नीचा होता है जो कि एक सामान्य स्थित है।
  • अण्डकोष में शुक्राणुओं का निर्माण होने लगात है।

द्वितीय लैंगिक गुण :-

  • हाथों, पैरों, बगल में, सीने, चेहरे तथा जननांगों के आसपास वाल आ जाते है।
  • दाढ़ी-मूँछ निकलने लगती है।
  • मुँहासे आते है।
  • आवाज भारी हो जाती है।

किशोरावस्था में मानसिक व भावनात्मक परिवर्तन :-

  • कल्पना में लीन होने जाना तथा स्वप्न देखना।
  • विपरीत लिंग के प्रति आकर्षण।
  • यौन उत्तेजना की शुरूवात/काम भावनाओं का जागृत होना।
  • चिडचिड़सवप, चंचलता एवं गुस्सा बढ़ जाना।
  • तनाव, झिझक एवं संकोच महसूस करना।
  • उतावलापन और जोखिम उठाने की प्रवृत्ति विकसित होना
  • दोस्तों से प्रभावित होना।
  • इच्छाओं, नैतिकता, मूल्यों में असमंजस्य पैदा होना।
  • माता-पिता एवं अन्य बड़ों से संबंधों में बदलाव।
  • स्वतंत्रता और जिम्मेदारियों में बदलाव।

किशोरावस्था में सामाजिक परिवर्तन :-

  • पारिवारिक संबंधों में घनिष्ठता कम होने लगती है । माता-पिता और किशोर-किशोरियों के बीच दूरी बढ़ जाती है।
  • सभी की रोक-टोक बुरी लगती है।
  • माता-पिता की अपेक्षा दोस्तों या विपरीत लिंग के दोस्तों को अधिक महत्व दिया जाता है।
  • अपनी पसंद और निर्णयोें में अडिग रहना और अपना लक्ष्य निर्धारित करना।
  • पसंदीदा व्यक्ति और दोस्तों के विचार व जीवन शैली से प्रभावित होना।
  • वयस्कों के सामने अपने को आत्मनिर्भर दर्शाने की कोशिश करना।
  • जीवन मूल्यों व आदर्शो के विषय में भ्रमित होना।

किशोरावस्था के दौरान अभिभावकों को अपने बच्चों से दोस्ताना व्यवहार करना चाहिये। उनसे कुछ बिना छिपायें सारी बातों को जो किशोरावस्था के परिवर्तन से संंबंधित है चर्चा करना चाहिये। यह शरीर के विकास की एक स्वभाविक प्रक्रिया है, उन्हें बताना चाहियें। उन्हें अकेले में नहीं रहने देना चाहिये।

इसके अतिरिक्त शरीर की साफ-सफाई और उनके देखभाल की जानकारी देनी चाहिये। शरीर और बेहतर स्वस्थ्य कैसे रहे इसके लिये संतुलित आहार, खेल-कूद व व्यायाम के विषय में ध्यान देना चाहिये।

किशोरावस्था में अपने साथियों का दबाव होता है जिसके चलते उनके समूह में रहने के लिये अपने दोस्तों की आदतों का अनुकरण करना होता है, अत: दोस्तों की बुरी आदतें किशोर-किशोरियों को जोखिम भरे जीवन में ला सकती है अत: साथियों के दबाव से बचना होगा और अपने विवेक व समझदारी का उपयोग करन करना होगा।

अपने साथियों के दबाव में न आना ना कहना सीखे :-

  • अपनी इच्छा एवं आदर्श का सम्मान करें।
  • अपने निर्णय स्वयं ले।
  • अपनी भावनाओं को समझे और उस पर आस्था रखे।
  • दूसरों द्वारा आप पर हावी होने के प्रयास को पहचाने और उससे बचें।
  • अपनी अनिच्छा को शब्दों के अतिरिक्त भी प्रदर्शित करना सीखें।
  • आत्मविश्वास रखे और जब ’’न’’ कहना हो तो ’’न’’ कहने का आनंद लें।

’’ना’’ कहने के तरीके :-

  • नम्रतापूर्वक मना करना।
  • कारण बताकर इंकार करना।
  • अपने इंकार को दुहराना।
  • अपने स्थान से हट जाना।
  • अनसुना करना।
  • ऐसी परिस्थिति में ही न पड़ना जहां अनुचित दबाव हो।
  • ऐसे साथी को ढूंढना जो आपका समर्थन करें।
  • अपनी भावनाओं के बारे में चर्चा करना।
  • साथियों के दबाव के कारण :-
  • समूह में शामिल होने के लिये ।
  • ध्यान आकर्षित करने के लियs
  • प्रसिद्वि या चर्चित होने के लिये
  • दोस्त बनाने के लिये
  • तुरन्त आनंद प्राप्त करने के लिये
  • घर में तथा विद्यालय में उचित स्नेह व प्रशंसा न मिलने पर, इस आवश्यकता की पूर्ति दोस्तों द्वारा करने के लिये।
  • अपने विद्रोही विचारों हेतु श्रोता प्राप्त करने के लिये।
  • अपने विद्रोही विचारों हेतु श्रोता प्राप्त करने के लिये।

साथियों के दबाव में आने के कारण को पहचान कर उसका निषेध करना उचित होता है।